नियति जन्य प्रहार कभी, भीषण निर्मम क्रूर
हो जाते क्षण में  सभी , सपने चकना चूर !!!
-ओंम प्रकाश नौटियाल

यह भी पढ़ें -  विभोम स्‍वर का जुलाई-सितम्‍बर 2016 अंक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.