लाशे बोल रही हैं

सड़कों से

फुटपाथों से

शमशानों से

कब्रिस्तानों से

कि

बचिए इस महामारी

और दो इंसानों से..!

©डॉ.सिराज

Sending
User Review
( votes)
यह भी पढ़ें -  "वे, जो शोषित हैं"

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.