अजन्मा प्रतिकार

                                     —राजा सिंह

मेरे भीतर ,

जन्म ले रहा है एक भ्रूण.

इसका पालन पोषण

मेरा शरीर नहीं ,

वरन करता है

मेरा कुंठित मन ,

और

कुंठित मन का अधार है

बेकारी, भुखमरी,भ्रष्टाचार

और अन्याय तथा शोषण का

फैला हुआ साम्राज्य.

अगर हालत यही रहे तो

भ्रूण बनेगा  शिशु ,

और शिशु से जवान ,

जो फिर

शब्द न देकर

देगा रक्त या लेगा रक्त ,

इस असहनीय व्यवस्था का.

इससे व्यवस्था

टूटे या न टूटे, मगर

एक गूंज होंगी

जो इस देश की

गूंगी,बहरी,एवं अंधी

सत्ता सुनेगी ;

और महसूस करेगी

इस देश की

शोषित मानवता

अपने शोषण को .

——-राजा सिंह

ऍम-१२८५ सेक्टर –आई,एल.डी.ऐ.कोलोनी

कानपुर रोड,लखनऊ-२२६०१२

Sending
User Review
( votes)
यह भी पढ़ें -  उडके छू अम्बर को

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.