शब्दखोज

भक्ति - ‘भक्ति’ शब्द की उत्पत्ति ‘भज’ धातु से हुई है। जिसका अर्थ है ‘भजना’,’भज’रूपी धन अथवा द्रव्य के अधिपति को भागवत कहा गया है अन जिसके लिए ‘भाग’ एक भाग निर्दिष्ट हुआ है । वह ‘भक्त’ ऋग्वेद में ‘भक्त’ ‘भक्ति’ और ‘भागवत’ शब्दों का प्रयोग इन्ही अर्थों में हुआ है । यदि आगे चलकर भवत शब्द से एक आलौकिक  सर्वशक्तिमान परम तत्व का बोध होने लगा तो उसके मूल में यही तथ्य है की उस तत्व की कल्पना एक ऐसे शक्ति के रूप में की गई, जिसका समस्त एश्वर्य एवं सम्पदा पर प्रभुत्व था और जो अपने उपासक को उसका एक अंश, ’भक्ति’, ब्रजबूलीकर उसे अपना ‘भक्त’ बना सकती थी । इसी कारण ‘भक्ति’ और ‘भक्त’ के प्रारम्भिक प्रयोग कर्मवाच्य में हुए है और ऋग्वेद की एक ऋचा में अग्नि को भक्तों और अभक्तों में भेद करने वाला कहा गया है । ‘भागवत’ के अनुग्रह से ‘भाग’ के एक अंश के प्रापक, अतिग्रहिता होने से ‘भक्त’ और ‘भक्ति’ शब्द देवी शक्ति के आठ एक प्रकार की सहभागिता एवं घनिष्ठ आत्मीयता की भावनाओं को व्यक्त करने के लिए सर्वथा उपयुक्त थे और संभवतः इसी कारण धार्मिक विचारधारा में ‘भक्ति’ शब्द एक सशक्त प्रतीक सिद्ध हुआ ।

Sending
User Review
0 (0 votes)