13.1 C
Delhi
Profile Photo

विश्वहिंदीजनOffline

0 out of 5
0 Ratings

    राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 में शिक्षक शिक्षा अपेक्षा, चुनौतियाँ एवं समाधान-डॉ. दिनेश कुमार गुप्ता

    इक्कीसवीं सदी की आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर बनाई गई राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 एक महत्वपूर्ण दस्तावेज़ है जो भारत की वर्तमान चनुौतियों, समस्याओं और भविष्य की ज़रूरतों की पूर्ति में सहायक होगा।

    Read More

    कठौतिया के शैलचित्र – पाषाण कालीन मानव सभ्यता और संस्कृति के प्रतीक

    मध्य प्रदेश का सीहोर जिला पाषाण कालीन मानव सभ्यता और संस्कृति का प्रमुख केन्द्र रहा हैं। इस क्षेत्र में पाषाण काल के मानव ने अपने जीवन का बहुत लम्बा समय व्यतीत किया है। मानव सभ्यता की अनमोल घरोहर शैलचित्र यहाँ पर आज भी सुरक्षित है, जिनको हम देख सकते है।

    Read More

    प्रो. करुणाशंकर उपाध्याय रचित ‘जयशंकर प्रसाद: महानता के आयाम’ की विश्वमानवता की भूमिका रचती सूक्तियाँ- डॉ. सुशीलकुमार पाण्डेय ‘साहित्येन्दु’

    मुम्बई विश्वविद्यालय के हिन्दी विभागाध्यक्ष प्रो0 करुणाशंकर उपाध्याय ने एकतीस वर्षों तक निरन्तर प्रसाद साहित्य सागर का तपोनिष्ठ आलोडन विलोडन कर ‘‘जयशंकर प्रसाद: महानता के आयाम’’ नामक 463 पृष्ठों का ग्रन्थ रचा है, जिसकी सूक्तिसुधा में ज्ञान का उन्मेष, प्रज्ञा का प्रकाश तथा मेधा का माहात्म्य समाहित है। इन सूक्तियों के पारायण से चिन्तन के नवीन गवाक्ष और मनन के नूतन परिसर परिलक्षित होते हैं।

    Read More

    कलमवीर धर्मवीर भारती- डॉ. उपेंद्र कुमार ‘सत्यार्थी’

    कुछ लेखक ऐसे होते हैं जो सबकुछ लिखकर भी किसी एक विधा में सिद्धहस्त नहीं हो पाते, तो कुछ लेखक बस एक ही विधा को साध पाते हैं या सिर्फ़ एक रचना से शोहरत हासिल कर लेते हैं. परन्तु, वैसे लेखक विरले होते हैं, जिनका सबकुछ अतिउत्तम हो, उत्कृष्ट हो, या हर रचना नई बुलंदियों को छूकर आए. कलमवीर धर्मवीर भारती का नाम ऐसे ही रचनाकरों की सूची में शामिल है, जहाँ से भी उनको देखिये, उनके साहित्यिक कद की ऊंचाई एक समान ही दिखाई पड़ती है. यही बात उनके पत्रकारीय लेखन में भी दिखाई पड़ेगी.

    Read More

    भाषा-क्षेत्र तथा हिन्दी भाषा के विविध रूप-प्रोफेसर महावीर सरन जैन

    स्वाधीनता के लिए जब जब आन्दोलन तेज़ हुआ तब तब हिन्दी की प्रगति का रथ भी तेज़ गति से आगे बढ़ा। हिन्दी राष्ट्रीय चेतना की प्रतीक बन गई। स्वाधीनता आन्दोलन का नेतृत्व जिन नेताओं के हाथों में था, उन्होंने यह पहचान लिया था कि विगत 600 - 700 वर्षों से हिन्दी सम्पूर्ण भारत की एकता का कारक रही है; यह संतों, फकीरों, व्यापारियों, तीर्थ यात्रियों, सैनिकों आदि के द्वारा देश के एक भाग से दूसरे भाग तक प्रयुक्त होती रही है।

    Read More
    Please wait...