दूसरे दौर की पत्रकारिता और समसामयिक समीकरण

मीडिया और समसामयिक समीकरण विषय पर बातचीत करें तो यह कथन पूर्णतः सत्य होगा कि वर्तमान युग मीडिया का युग है। जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में मीडिया का दखल है ।लोकतंत्र का चौथा स्तंभ मीडिया क्या अपनी निर्धारित भूमिका निभाने में सफल हो रहा है? यह एक विचारणीय प्रश्न है

Read More

प्रेमचंद के आलोचक और आलोचकों के प्रेमचंद-सुशील द्विवेदी

प्रेमचंद पर विचार करते हुए इस बात पर भी बहस जरुरी है कि आलोचकों ने प्रेमचंद को किस रूप में पढ़ा है | उनके प्रेमचंदीय –पाठ ने हिन्दी आलोचना के संवर्धन में कितनी श्रीवृद्धि की है | हमें उनके मूल्यों पर भी विचार करना होगा |

Read More

अंतरविषयी, बहुविषयी और परा विषयी अध्ययन का विश्लेषण

उत्तर आधुनिक पाठ्यक्रमों में जहाँ स्टडीज (studies) जैसे नए अनुशासनों का दायरा बढ़ा है वैसे ही पारंपरिक अनुशासनों की सैद्धान्तिकता, परिकल्पनाओं, संकल्पनाओं के दायरे में भी वृद्धि हुई है

Read More

हिंदी शोध

हिंदी भाषा में विज्ञान के क्षेत्र में हुए शोध* हिंदी भाषा में कला के क्षेत्र में हुए शोध* हिंदी भाषा में तकनीकि के क्षेत्र में हुए शोध* हिंदी भाषा में इतिहास के क्षेत्र में हुए शोध* हिंदी भाषा में राजनीतिक विज्ञान के क्षेत्र में हुए शोध* हिंदी भाषा में मिडिया के क्षेत्र में हुए शोध* हिंदी भाषा में शिक्षा शास्त्र के क्षेत्र में हुए शोध

Read More

एनटीए यूजीसी नेट हिंदी साहित्य का पाठ्यक्रम एवं उनसे संबधित सामग्री

यहाँ एनटीए द्वारा आयोजित राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा (नेट) में हिंदी साहित्य विषय का सम्पूर्ण पाठ्यक्रम, उनमें शामिल रचनाएँ एवं संबधित महत्वपूर्ण सामग्री एक जगह प्राप्त कर सकते हैं।

Read More
Please wait...

Like this:

error: कॉपी नहीं शेयर करें!!
%d bloggers like this: