27.1 C
Delhi
  • कविता "प्रवास"

    प्रवास जैसे चलती यह पुरवाई, मै तो बस ऐसे ही चला था, जैसे चलती धारा नदी की, मै तो बस ऐसे ही चला था  I ना कुछ पा ना ना कुछ खो ना, सुख-दुःख की कोई तमा नही थी मेरी कोई मंझील नही थी मै तो बस...

    Read More

Media

Recent Posts