जनकृति के उपक्रम विश्वहिंदीजन (हिंदी भाषा सामग्री का ई संग्राहलय एवं हिंदी रचनात्मकता के प्रचार-प्रसार का मंच) को सितम्बर 2016 में प्रारंभ किया गया. आज 120 से अधिक देशों से विश्वहिंदीजन को 1 लाख से अधिक बार देखा जा चुका है. हम निरंतर प्रयास कर रहे हैं कि आपके समक्ष सृजन के प्रत्येक क्षेत्र से हिंदी भाषा में सामग्री उपलब्ध करवा सके. प्रतिदिन नवीन जानकारियों के साथ-साथ संकलन का कार्य भी किया जा रहा है, जिसमें आपके सहयोग की भी आवश्यकता है. यदि आप अपनी रचना, लेख, पत्रिका, पुस्तक इत्यादि की जानकारी अत्याधिक पाठकों तक पहुंचाना चाहते हैं तो vishwahindiajan@gmail.com पर मेल करें. सामग्री के साथ चित्र अवश्य भेजें. 


यदि आप विश्वहिंदीजन से जुड़ना चाहते हैं तो वेबसाईट पर ‘विश्वहिंदीजन से जुडें’ विकल्प पर जाकर जुड़ सकते हैं साथ ही अपना इमेल भी जमा करें ताकि सभी जानकारी आपको मेल पर भी प्राप्त हो सके.

यह भी पढ़ें -  मुँह दिखाई: अमित राज 'अमित'

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.