जैसा कि आप सभी जानते हैं जनकृति द्वारा हिंदी भाषा सामग्री के संकलन एवं प्रचार-प्रसार हेतु ‘विश्वहिंदीजन’ का संचालन किया जा रहा है. विश्वहिंदीजन के पोर्टल पर आप साहित्यिक रचनाओं, लेख, शोध आलेख, साक्षात्कार, नवीन पुस्तकों एवं पत्रिकाओं की जानकारी, विश्व हिंदी संस्थान, हिंदी विभाग, हिंदी सेवियों की जानकारी इत्यादि समेत कई महत्वपूर्ण जानकारी आप देख सकते हैं. हमारे पास विश्वहिंदीजन से जुड़ने हेतु आपके सन्देश प्राप्त होते हैं. यदि आप विश्वहिंदीजन से जुड़ना चाहते हैं और सभी जानकारी नियमित तौर पर प्राप्त करना चाहते हैं तो लिंक पर जाएँ- 
[www.vishwahindijan.blogspot.in] 
यदि आप मोबाईल अथवा कंप्यूटर से पोर्टल पर जा रहे हैं तो पोर्टल पर जाते ही किसी भी आलेख पर क्लिक करें तब आलेख के ऊपर समर्थक लिखा हुआ है जुड़ने के लिए अपना जीमेल लॉग इन करके नीचे दिए ‘अनुसरण करें’ बटन को दबाएँ… यदि आप विश्वहिंदीजन के सदस्य के तौर पर जुड़ना चाहते हैं तो नीचे दिए लिंक पर जाकर जानकारी देखें. 
https://vishwahindijan.blogspot.in/p/blog-page_31.html
यह सदस्य सीधे तौर पर पोर्टल पर लेखन, संकलन इत्यादि कर सकते हैं साथ ही अपने सृजनात्मक कार्यों का प्रचार कर सकते हैं. इसके अतिरिक्त यदि आप अपने सृजनात्मक कार्यों में प्रकाशित/अप्रकाशित पुस्तक, पत्रिका, साहित्यिक रचनाओं का प्रचार-प्रसार करना चाहते हैं तो सम्पूर्ण जानकारी, चित्र के साथ vishwahindijan@gmail.com पर मेल करें. 
हाल ही में दृष्टिबाधित लोगों के लिए मुख्य रूप से एवं आप सभी के लिए साहित्यिक रचनाओं, लेख, शोध आलेख, साक्षात्कार इत्यादि की रिकॉर्डिंग की जा रही है, जिसको विश्वहिंदीजन से यूट्यूब चैनल ‘विश्वहिंदीजन स्टूडियो’ पर आप सुन सकते हैं. इन रिकॉर्डिंग की जानकारी आपको मिलती रहे इसके लिए यूट्यूब चैनल पर जाकर सब्सक्राईब एवं बेल का बटन दबाएँ. विश्वहिंदीजन स्टूडियो में रिकॉर्डिंग हेतु लिंक पर जाएँ- 
https://www.youtube.com/channel/UCY8HT3yS4_Q4kwD2sUJGsyA
विश्वहिंदीजन को अत्यंत ही कम समय में विभिन्न देशों से 2 लाख 50 हजार से अधिक बार देखा गया है. हमारा प्रयास है कि अधिक से अधिक सामग्री विश्वहिंदीजन के माध्यम से आप तक पहुँच सके साथ ही आपके सृजनात्मक कार्यों को अत्याधिक लोगों तक पहुंचा सकें. 
अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें – 
कुमार गौरव Kumar Gaurav
संस्थापक
जनकृति 
8805408656
इमेल- kumar.mishra00@gmail.com

यह भी पढ़ें -  बादल सरकार : युगांतकारी रंगकर्मी और उनकी त्रासदी: मुकेश बर्णवाल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.