22.1 C
Delhi
- Advertisement -spot_img

CATEGORY

फिल्म समीक्षा

शेरनी – एक अच्छी फिल्म और कई सवाल

यह फिल्म डी एफ ओ के पद पर तैनात कर्त्तव्यनिष्ठ अधिकारी विद्या विन्सेंट के विषय में है जो वन विभाग के अपने वरिष्ठ अधिकारियों, स्थानीय नेताओं की राजनीति और पारिवारिक समस्याओं से जूझती हुई, अपने दायित्व का निर्वहन करने का प्रयास करती है.

The Tomorrow War । द टूमोरो वॉर

एक बढ़िया अमेरिकन मिलिट्री साइंस फिक्सन फिल्म। Chris McKay की बतौर डायरेक्टर पहली फिल्म।

भारतीय सिनेमा का चुनिया यानी ‘लवेबल-विलेन’-तेजस पूनियां 

मरीश पुरी ने फिल्मों में हीरो बनने के लिए जो स्क्रीन टेस्ट दिया था वे उसे पास नहीं कर पाए थे। इस बात से निराश हो उन्होंने मिनिस्ट्री ऑफ लेबर में काम किया। इसी दौरान उन्होंने स्टेज पर एक्टिंग और फिल्मी पर्दे पर विलेन के रुप में काम करना भी शुुरू किया। कुछ फिल्‍मों में सकारात्मक भूमिकाएं भी अदा की।

फ़िल्म समीक्षा-दो बीघा ज़मीन: डॉ. पुनीत बिसारिया

इस फिल्म को भारत ही नहीं बल्कि यूरोप, चीन एवं रूस के दर्शकों से भी प्यार मिला था। इसे मिले अनेक राष्ट्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय पुरुस्कारों से इसकी लोकप्रियता का सहज अंदाज लगाया जा सकता है। बाद में बनी मदर इंडिया, उपकार, मंथन, लगान, पीपली लाइव, किसान जैसी फिल्में इस फिल्म से ही प्रेरित होकर बनाई गई थीं।

बेनूर और स्याह चेहरों की दास्तान ‘ब्यूटी ऑफ़ लाइफ़’- तेजस पूनिया

35-40 चेहरे और शरीर की सर्जरी। 20-30 लाख और इससे भी ज्यादा का खर्च। बावजूद उसके आप पहले जैसा चेहरा या शरीर ना पा सकें तो क्या गुजरेगी आप पर। इसी कहानी को कहती है यह डॉक्यूमेंट्री- 'ब्यूटी ऑफ़ लाइफ़'।

रिव्यू : संघर्षों से उपजी ‘वर्ना’

वर्ना 2017 में आई पाकिस्तानी सोशल-ड्रामा फिल्म है। शोएब मंसूर द्वारा लिखित, निर्देशित और निर्मित उनके शोमन प्रोडक्शंस के तहत इस फ़िल्म में माहिरा ख़ान और नवोदित कलाकार हारून शाहिद, ज़र्रार ख़ान और नायमल खरवार हैं।

फिल्म अभिनेता शशि कपूर एवं इरफान खान को याद करते वरिष्ठ पत्रकार प्रकाश के रे

ऋषि कपूर और इरफ़ान खान के हवाले से कुछ बातचीत- प्रकाश के रे Prakash K Ray Posted by AaghaaZ on Thursday, April 30, 2020

Latest news

- Advertisement -spot_img