29.1 C
Delhi
- Advertisement -spot_img

CATEGORY

आलोचना

गोविंद मिश्र के यात्रा साहित्य में अंतर्निहित लोक संस्कृति

हिंदी यात्रा-साहित्य के विकास में समकालीन गोविंद मिश्र का प्रदान अहमियत रखता है | वे बहुमुखी प्रतिभासम्पन्न रचनाकार हैं |

आलोचना की पुस्तकें

आप यहाँ आलोचना की पुस्तकें निशुल्क पढ़ सकते हैं।

हिंदी की आरम्भिक आलोचना का विकास (तुलनात्मक आलोचना के विशेष संदर्भ में )-रवि कुमार

आधुनिक युग का उदय साहित्य में अत्यंत महत्वपूर्ण मोड़ है। जिसमें भारतेंदु और उनके युग के लेखकों ने विशेष भूमिका निभाई हैं। हिंदी आलोचना का उदय इसी साहित्यिक भूमिका की देन है। वैसे तो हिंदी आलोचना का आरंभ बाल्मीकि के कंठ से निकले पहले पद्य से ही हो जाता है परन्तु आधुनिक युग में गद्य के विकास से हिंदी आलोचना को गति प्रदान होती है। आरंभिक हिंदी आलोचना का विकास पत्र-पत्रिकाओं से आरंभ होता है। इन्हीं आरंभिक पत्र-पत्रिकाओं में आलोचना की बहसों के साथ तुलनात्मक आलोचना भी विकसित होती है। वैसे तो तुलनात्मक आलोचना के सूत्र हमें संस्कृत साहित्य में सूक्तियों के रूप में मिलते है और ये सूक्तियां ही आगे चल कर हिंदी आलोचना में भी विकसित होती हैं। इस लेख में हिंदी की इसी आरम्भिक तुलनात्मक आलोचना के स्वरूप, बहसों, एक-दूसरे रचनाकार को बड़ा दिखने की प्रतिस्पर्धा और तुलनात्मक आलोचना के विकसित होने के कारण हिंदी आलोचना में आयी गिरावट को दिखाया गया है।

लॉकडाउन एवं शिक्षा-एस के मिश्रा

लॉकडाउन के समय में सबसे अधिक चुनौती मिली है शिक्षा के क्षेत्र को, आज हमे भी एक कदम आगे आना होगा इस क्षेत्र में...

आलोचना के कब्रिस्तान से…:अरुण माहेश्वरी

आलोचना के कब्रिस्तान से... अरुण माहेश्वरी सन् 1984 की बात है। आचार्य रामचंद्र शुक्ल का जन्म शताब्दी वर्ष था। कहा जा सकता है - आज की...

Latest news

- Advertisement -spot_img