एकदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी- रेणु साहित्य का समकालीन संदर्भ

ल.ना. मिथिला विश्वविद्यालय के हिन्दी विभाग में दिनांक 24/02/2021 को एकदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन होने जा रहा है,

 61 total views,  6 views today

अच्छे विचारों, अच्छे गुणों और अच्छे लोगों को सहेज कर रखना होगा, यही आज युग धर्म है ” अनुपमा अनुश्री

शासकीय गृहविज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, होशंगाबाद में अंतर्राष्ट्रीय बेवीनार ” माइंड योर माइंड इन पेंडेमिक टाइम “का आयोजन किया गया जिसमें …

 6 total views

भक्तिकाल और मीराबाई

मीराबाई की भक्ति और नारी शक्ति आज के सन्दर्भ में समझनी चाहिये । मीरा का काव्य लोकजीवन में रचा बसा …

 3 total views

अंतरराष्ट्रीय वेबिनार मुख्य विषय :- किन्नर विमर्श : इतिहास , समाज , साहित्य के संदर्भ में

मुख्य विषय :- किन्नर विमर्श : इतिहास , समाज , साहित्य के संदर्भ में
आयोजक :-
हिन्दी विभाग टांटिया विश्वविद्यालय श्री गंगा नगर, राजस्थान
किन्नर अधिकार ट्रस्ट रजि. एवं विलक्षणा एक सार्थक पहल समिति रजि. के सहयोग से
दिनांक 31 मई 2020 को आयोजित किया जायेगा।

 3 total views,  1 views today

हंसराज कॉलेज, दिल्ली वि.वि. द्वारा आयोजित राष्ट्रीय वेबिनार – विषय : कामकाज के बदलते तौर तरीके और तकनीक, 27 मई 2020, सायं 4 बजे

हंसराज कॉलेज, दिल्ली वि.वि. द्वारा आयोजित राष्ट्रीय वेबिनार – विषय : कामकाज के बदलते तौर तरीके और तकनीक, 27 मई 2020, सायं 4 बजे

 3 total views

एक दिवसीय राष्ट्रीय वेबिनार सामयिक संदर्भ और फणीश्वरनाथ रेणु का साहित्य दिनांक : 07 जून 2020

एक दिवसीय राष्ट्रीय वेबिनार सामयिक संदर्भ और फणीश्वरनाथ रेणु का साहित्य दिनांक : 07 जून 2020

 6 total views

आमंत्रण – तीन दिवसीय राष्ट्रीय वेबिनार [विषय:- “वर्तमान परिप्रेक्ष्य में संत साहित्य की प्रासंगिकता”]

भारतीय विचार मंच, नागपुर एवं अक्षरवार्ता अंतरराष्ट्रीय शोध पत्रिका, उज्जैन (मध्यप्रदेश) के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित
तीन दिवसीय राष्ट्रीय वेबिनार में सभी प्राध्यापक, शोधार्थी, विद्यार्थी तथा साहित्य प्रेमी सादर आमंत्रित हैं।

विषय:- “वर्तमान परिप्रेक्ष्य में संत साहित्य की प्रासंगिकता”

 3 total views

“भारतीय भाषाओं में लोक-साहित्य” विषय पर आयोजित दो-दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी हेतु शोध आलेख आमंत्रित.. अधिक जानकारी हेतु लिंक देखें

 2 total views

 2 total views

हिंदी और अन्य भारतीय भाषाएँ: अंतः:संबंध और वैशिष्ट्य (राष्ट्रीय संगोष्ठी)

 6 total views,  1 views today

 6 total views,  1 views today