No menu items!
33.1 C
Delhi
होमसाहित्यिक विमर्श

साहित्यिक विमर्श

हिन्दी-उर्दू का अन्तर्संबंध और निदा फ़ाज़ली की कविता-ग़ज़ल: डॉ. बीरेन्द्र सिंह

हिन्दी-उर्दू का भेद है नहीं, उसे बनाया जाता है । प्रेमचंद भी यही मानते थे और उनका तो लेखन भी इस बात का गवाह है कि अगर बोलचाल की भाषा का ही प्रयोग लेखन में भी किया जाये तो हिन्दी उर्दू में कहीं कोई भेद है ही नहीं । फिर हिन्दी-उर्दू के बीच यह भेद की दीवार कैसे खड़ी हो गई, इसके पीछे का इतिहास क्या है, अब आइए इस पर भी ज़रा निगाह डालते हैं ।
[td_block_social_counter facebook=”TagDiv” twitter=”tagdivofficial” youtube=”tagdiv” style=”style4 td-social-colored” custom_title=”FOLLOW US” block_template_id=”td_block_template_2″ f_header_font_family=”445″ f_header_font_size=”18″ f_header_font_line_height=”1.4″ f_header_font_transform=”uppercase” header_text_color=”#aaaaaa” f_header_font_weight=”300″]

MOST POPULAR

LATEST POSTS