1. **वसुंधरा वंदन**
    तिरंगें में रंगा है जन,
    तन,मन और जीवन।
    कोटि-कोटि नमन तुम्हें,
    हे! वसुंधरा जग वंदन।।
    नील गगन कृति गाए,
    मधुर मलय ध्वजा लहराए।
    यश की गाथा गान सुनाए,
    गीत-राग में वन्दे मातरम।
    कोटि-कोटि नमन तुम्हें,
    हे! वसुंधरा जग वंदन।।
    हिमालय बन रक्षक प्रहरी,
    सागर निशदिन चरण पखारे।
    अविरल,कल-कल गंगा धारा,
    तुम्हारे मंत्र का स्वर पुकारे,
    माँ! तुम्हारे पद धूलि से,
    मैं करूं तिलक चंदन।
    कोटि-कोटि नमन तुम्हें,
    हे!वसुंधरा जग वंदन।।
    सिंह की दहाड़ कानों में पड़ते ही,
    रोम-रोम में जोश जगे।
    हुंकार भरी बदरी ,
    जब जब प्रलयंकर राग रचे,
    मानो तेरे लोचन में लग रही हो अंजन।
    कोटि-कोटि नमन तुम्हें,
    हे! वसुंधरा जग वंदन।।
    कोटि-कोटि नमन तुम्हें,
    हे!वसुंधरा जग वंदन।

विश्वरुप साह ‘परीक्षित’

भारत के पश्चिम बंगाल प्रान्त से एक नवोदित कवि

Sending
User Review
( votes)
यह भी पढ़ें -  आज की समसामयिक स्थिति में पलायन करते मजदूरों की व्यथा को व्यक्त करती मेरी यह कविता ......... भूख

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.