मीराबाई की भक्ति और नारी शक्ति आज के सन्दर्भ में समझनी चाहिये । मीरा का काव्य लोकजीवन में रचा बसा है ।

यह भी पढ़ें -  आज की समसामयिक स्थिति में पलायन करते मजदूरों की व्यथा को व्यक्त करती मेरी यह कविता ......... भूख

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.