Home साहित्य कविता नारी शक्ति

नारी शक्ति

तुम जननी हो, तुम शक्ति हो, आश्रिता ना समझना

तुम नारी हो, तुम सबला हो, अबला ना समझना

 

पुरुष और नारी के भेद भाव को न पलने देना 

भ्रूण के हत्यारों से अजन्मी कोख न मरने देना

मौन की तडफन को तुम तांडव में बदल देना

तुम नारी हो, तुम सबला हो, अबला ना समझना

 

मन की उड़ान को पिंजरे में न बंद होने देना

प्रतिभा के पंछी के पंखों को न कुतरने देना

गायन के गुंजन को तुम गर्जन में बदल देना

तुम नारी हो, तुम सबला हो, अबला ना समझना

 

अपने पैरों में बेबसी की बेड़ियाँ न पड़ने देना

दहेज़ रुपी दानव से जीवन को न जलने देना

दमन के सहन को तुम तीव्र तपन में बदल देना

तुम नारी हो, तुम सबला हो, अबला ना समझना

 

मानवीय रिश्तों को कभी कलंकित न होने देना

वहशी दरिंदों से किसी की अस्मत न लुटने देना

दया की देवी को तुम साक्षात् दुर्गा में बदल देना

तुम नारी हो, तुम सबला हो, अबला ना समझना

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here