इस कविता का आधार है एक ऐसा पति जिसकी पत्नी की अचानक से मृत्यु हो जाती है, तब उसके मन की जो संकल्पनाऐं जन्म लेती हैं उनका वर्णन किया है, !

सब सन्न हैं ,
सब मौन हैं ,
स्तब्ध हैं सब कोई यहाँ
है गिरी बिजली सी कोई,
या गिर पङा पहाड़ है
आत्मा का है ग़मन,
अब
ये जिस्म भी बेजान है
थी ,
कल चहकती सी , महकती सी
जैसे हो कुमुदुनी की कली ,
छोङकर मुझको अकेला ,
वो अकेली ही चली ,
जन्मों की खाई थीं कसमें,
फेरे सात जन्मों के लिये,
साथ देंगे एक दूसरे का ,
फिर क्या हुआ? मेरी प्रिये ,
कुछ अनौखी अटपटी सी ,
तेरी वो नादानियां ,
एक फिल्म जैसी रील चलती ,
हैं झलकतीं झलकियां,
क्या हुआ? कैसे हुआ?
कब हुआ ये हादसा ?
कुछ न,
समझ में आ रहा है,
जिंदगी का इम्तहान,
हंसती खेलती जिंदगी में ,
हो गया बिखराव है ,
दो दिलों के मिलन में,
हो गया एक घाव है ,
दर्द इसका है अजब सा ,
टीस दिल में ही रहे
सब दिखेंगे चलते फिरते ,
न तुम दिखोगी हे प्रिये ,
बात किससे में कहूँगा,
अपने दिल ए जजबात की ,
प्यार किससे में करूँगा,
ये तुम नहीं हो जानती ,
हूँ अकेला में तेरे बिन,
इस भरे संसार में,
लङ सके सबसे अकेला ,
शक्ति है वो प्यार में ,
न दिखेगा रूप तेरा ,
जो मुझे इठलाऐगा ,
सोच कर हर बार तुमको ,
दिल मेरा भर आएगा ,
क्यों अकेला रह गया मैं,
संग मुझको क्यों न ले चली ,
लग रही हो सेज पर,
लेटी हुई भी सुंदरी ,
क्या कहूँ, किसकी सुनूं मैं,
सब कुछ मेरा बेकार है ,
आदमी की जिंदगी में,
पत्नी ही संसार है ,
इस दर्द को ,
अपने मैं कैसे ,
तुमको बांटूँ , हे प्रिये
एक पल ही बिन तेरे , यूं लगता ,
जैसे वर्षों से तन्हा जिये ।

यह भी पढ़ें -  लक्ष्मीकांत मुकुल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.